Bill Gates Success Story In Hindi | बिल गेट्स की सफलता की कहानी...

Bill Gates Success Story In Hindi

बिल गेट्स की सफलता की कहानी...


बिल गेट्स की सफलता की कहानी | Bill Gates Biography In Hindi | Bill Gates Success Story In Hindi

    1. 

 नाम  विलियम हेनरी गेट्स 
    2. 

 जन्म  अक्टूबर 28, 1955
    3. 

 जन्मस्थान  सीऐटल, वॉशिंगटन, अमेरिका
    4. 

 स्कूल   लेकसाइड  स्कूल  
    5. 

 पिता  बिल गेट्स सीनियर
    6. 

 माता  मैरी मैक्सवेल गेट्स
    7. 

 पत्नी  मेलिंडा गेट्स
    8. 

 बच्चे  तीन (1 लड़का , 2 लड़की)

"यदि आप गरीब परिवार में जन्मे है, तो यह आपकी गलती नहीं है - लेकिन यदि आप गरीब रहकर ही मर जाते है तो यहाँ आपकी गलती है" ऐसा कहना है इस दुनिया के सबसे अमीर इंसान Bill Gates (बिल गेट्स) का जो अपनी सच्ची लगन और मेहनत के बल पर  इस मुकाम पर आ पहुंचे है की अगर वो विश्व में अपना एक अलग देश बनाये तो भी वह दुनिया का ३७ वा सबसे अमीर देश होगा. Bill Gates (बिल गेट्स) प्रत्येक दिन लगभग 102 Rs. करोड़ कमाते है. और कहा जाता है की Bill Gates (बिल गेट्स) अगर पूरी दुनिया में हर व्यक्ति को अपनी संपत्ति का बराबर रूपया बाटे तो हर एक के हिस्से में करीब 5000 Rs आएंगे. 

Bill gates

Bill Gates (बिल गेट्स) का वास्तविक नाम William Henry Gates है, इनका जन्म October 28, 1955 को वाशिंगटन (Washington) के सीएटल (Seattle) में हुआ था. Bill Gates (बिल गेट्स) के पिता एक मशहूर वकील थे. Bill Gates (बिल गेट्स) के माता-पिता उनके लिए Law में करियर बनाने का स्वप्न लेकर बैठे थे. लेकिन Bill को बचपन से ही कंप्यूटर और उनकी प्रोग्रामिंग (Programming) की भाषाओ में बहुत जा रूचि थी. उनकी प्रारंभिक शिक्षा Lakeside School में हुई. लेकसाइड स्कूल में विद्यार्थियों को कंप्यूटर सिखने और उसे अधिक जानने के लिए स्कूल की तरफ से कंप्यूटर दे दिया गया, जिससे Bill Gates (बिल गेट्स) की कंप्यूटर में रूचि और बढ़ने लगी. Bill Gates को कंप्यूटर सिखने से ज्यादा यहाँ जानने की रूचि थी की आखिर यह काम कैसे करता है ?  कुछ साल कंप्यूटर के बारे में सिखने के बाद  उन्होंने १३ साल की उम्र में बेसिक कंप्यूटर की भाषा में एक tic tac toe (टिक टयाक टो) नाम का प्रोग्राम बनाया जो की एक तरह का गेम था. इसमें खास बात यह थी की कोई भी व्यक्ति उस गेम को कंप्यूटर के साथ खेल सकता था, मतलब उस गेम को खेलने के लिए २ लोगो की जरुरत नहीं थी. 

जब Bill Gates (बिल गेट्स) स्कूल में पढ़ रहे थे तभी उनकी मुलाकात Paul एलन (पॉल एलन) से हुई जो उनसे दो साल बड़े थे, Paul एलन (पॉल एलन) को भी कंप्यूटर में बहुत अछि रूचि थी. अपनी कंप्यूटर की मिलती धारणाओं  और विचारो की वजह से वह दोनों बहुत अच्छे दोस्त बन गए, जब की दूसरी तरफ उनके स्वभाव एकदूसरे से बिलकुल ही विपरीत थे. जिसमे Paul Allen  (पॉल एलन) बहुत एक शांत स्वाभाव और थोड़े शर्मीले किस्म के थे लेकिन बिल गेट्स उनके विपरीत थोड़े चंचल स्वाभाव के थे. Bill Gates (बिल गेट्स) के स्कूल वाले ने उन्हें और उनके दोस्त Paul Allen (पॉल एलन) को कंप्यूटर लैब में जाने पर रोक लगा दिया था. क्योंकि सीओ दोनों कंप्यूटर सिखने के वक्त के अलावा अपनी पढाई छोड़कर सारा वक्त कंप्यूटर लैब में ही बिताते थे और कंप्यूटर के सॉफ्टवेयर (Software) के साथ छेडछाड़ किया करते थे. फिर बाद में उन दोनों को एक शर्त पर लैब में आने की इजाजत मिल गई की वो दोनों प्रोग्राम्स में एरर (Error) निकालेंगे.


उसी समय फिर से Bill Gates (बिल गेट्स) ने एक और सॉफ्टवेयर (Software) बनाया जो उनके स्कूल के टाइम टेबल के schedule में काम आता था. साल 1970 में 15 साल की उम्र में ही Bill Gates (बिल गेट्स) और Paul Allen (पॉल एलन ने मिलकर एक प्रोग्राम बनाया जो की शहर की ट्रैफिक पैटर्न पर नजर रखता था, उन्हें इस प्रोग्राम के लिए बीस हजार डॉलर (20000 $) मिले जो इनकी पहली कमाई थी. 1973 में अपने स्कूल से पास होकर उन्होंने हॉवर्ड यूनिवर्सिटी (Howard University) में एडमिशन ले लिया. 1975 में बिना ग्रेजुएशन किये Bill Gates (बिल गेट्स) ने अपना कॉलेज छोड़ दिया और वह अपनी कपनी की तरफ ध्यान देने लगे. 26 नवंबर 1976 को उन्होंने माइक्रोसॉफ्ट (Microsoft) को अपनी कंपनी के नाम से रजिस्टर किया और देखते ही देखते कंप्यूटर सॉफ्टवेयर की दुनिया में सबसे ऊपर स्थान प्राप्त कर लिया. Bill Gates (बिल गेट्स) की संपत्ति में भी उनके बच्चो का कोई हक़ नहीं होगा, Bill कहते है की वो अपने बच्चो को अच्छी शिक्षा देंगे लेकिन कमाई के लिए उन अपने रास्ते खुद निकलने होंगे.

Bill Gates_World_Richest_Person

Bill Gates (बिल गेट्स) को बचपन से ही लोगो की मदद करना बहुत अच्छा लगता था और आज भी वो गरीबो और जरुरतमंदो के लिए करोडो रूपया दान कर देते है. गेट्स ने अपने जीवन में कभी हार नहीं मानी, उनका हमेशा से ही यही मानना था की गलतिया तो सभी से होती है लेकिन उन गलतियों को जो सुधरने का प्रयास करे, वही जीवन में सफल हो पाता है.  

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ